ज्ञानं शीलं धर्मश्चैव भूषणं - The Real Ornaments are Knowledge, Modesty and Sense of Duty.”
Accredited with Grade 'A' by NAAC

दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी 'मध्यकालीन साहित्य के शिक्षण की चुनौतियाँ' के लिए शोधपत्र आमंत्रण