ज्ञानं शीलं धर्मश्चैव भूषणं - The Real Ornaments are Knowledge, Modesty and Sense of Duty.”
Accredited with Grade 'A' by NAAC

अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी 2016-17

स्वर्ण जयंती के अवसर पर कालिंदी महाविद्यालय (हिंदी विभाग) एवं हिंदी अकादमी, दिल्ली सरकार के संयुक्त तत्त्वावधान में 9-10 मार्च 2017 को ‘सोशल मीडिया में साहित्य का बदलता स्वरूप ‘ विषय पर दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया । संगोष्ठी के उदघाटन सत्र के मुख्य अतिथि प्रोफेसर सुधीश पचौरी (पूर्व उपकुलपति, दिल्ली विश्वविद्यालय) ने अपनी उपस्थिति से कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई। कालिंदी महाविद्यालय, की प्राचार्या डॉ अनुला मौर्य ने संगोष्ठी में उपस्थित सभी अतिथियों और वक्ताओं को स्मृति चिह्न प्रदान कर उनका स्वागत किया । इस अवसर पर डॉ जीतराम भट्ट (सचिव ,हिन्दी अकादमी, दिल्ली सरकार), प्रोफेसर मोहन (विभागाध्यक्ष, हिंदी विभाग , दिल्ली विश्वविद्यालय, ) श्रीमती मैत्रेयी पुष्पा (उपाध्यक्ष, हिन्दी अकादमी, दिल्ली सरकार, ) चीन से पधारें प्रोफ़ेसर ग.फू. फिंग (निदेशक, हिन्दी विभाग, शीआन इंटरनेशनल स्टडीज, चीन)अपनी धर्मपत्नी एवं छात्र दल के साथ उपस्थित थे । इस अवसर पर अतिथियों द्वारा स्मारिका का विमोचन भी किया गया । मंच संचालन हिंदी विभाग के सहायक प्रोफेसर डॉ पुखराज जांगिड ने किया ।  सम्पूर्ण प्रतिवेदन.....